हेलो फ्रेंड्स स्वागत है आपका अपने चैनल 'Health information 4u' आज हम जानेगे महिलाओ के हेल्थ टिप्स के बारे मे कुछ ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं होती है जो सिर्फ महिलाओ को ही होती है लेकिन महिलाएं अक्सर इन छोटी-छोटी चीजों के बारे मे लापरवाह होती है और जिसके कारण उन्हें बाद मे समस्याओ का सामना करना पड़ता है.


तो आइये जानते है की एक महिला अपने स्वास्थ का बेहतर ख्याल कैसे रख सकती है.


Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal



क्या आपको पता है व्यायाम करने से पीरियड संबधित समस्याएं कम होती है लेकिन व्यायाम एक सीमा मे ही करना चाहिए.आगे पढ़े-लड़कियां ही पढ़े, प्रेग्नेंट महिला को भूलकर भी नहीं खानी चाहिए ये चीज़े.

Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

आप अपने स्त-नों की खुद जाँच करती रहे कहीं उनमे ब्रैस्ट कैंसर का कोई लक्षण तो नहीं दिखाई दे रहा है.

Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

आप चाय के साथ नमकीन या बिस्कुट न ले क्यूंकि इससे मोटापा बढ़ने की सम्भावना कम होगी.


Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

आप हाथ या पैरो के बाल हटाने के लिए कभी भी रेज़र का उपयोग न करे और अपने शरीर का नियमित मसाज करे.

Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

अगर आपके मासिक श्राव का रंग हरा या पिला हो जाए तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए .

Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

अगर आपके ब्रेस्ट मे रैशेज़ हो जाए तो मीठा खाना कम करे . रैशेज़ वाली जगह पर तुलसी के पत्तो का पेस्ट लगाने से फायदा पहुचेगा और हल्दी को दूध के साथ मिलाकर प्रभावित हिस्से पर लगाने से भी फायदा पहुंचेगा.


Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

गर्भाशय मसाज करे. गर्भाशय मूत्राशय के पीछे पेल्विक कैविटी के निचे वाले भाग मे होता है शरीरी के इस हिस्से मे मालिश करने से मुड़े हुए गर्भाशय को सीधे होने मे मदद मिलती है.

Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

ओवरी मसाज करे ये गर्भाशय के सामने स्थित होती है इस हिस्से मे सेल्फ मसाज के ज़रिये भीतरी हिस्से मे ओक्सिजन युक्त रक्त का प्रवाह होता है जिससे अन्डो की सेहत पर सकारात्मक असर पड़ता है.

Ladies-aese-rakhe-sehat-ka-khyal

नवविवाहिताओ मे हनीमून सिस्टाईस की समस्या होना एक आम बात है. हनीमून सिस्टाईस मूत्र-मार्ग के संकर्मण को कहते है हालांकि यौ-न सम्बन्ध बनाने के अलावा भी कई कारणों से यह शिकायत हो सकती है पर ज़्यादातर यौ-न सम्बन्ध बनाते समय अनजाने मे महिलाओ की मूत्र द्वार मे जीवाणु चले जाते है .
सम्भोग के बाद हमेशा पेशाब करे और यौनी को साफ़ करे बार-बार पेशाब लगना पेशाब करने के दौरान जलन बुखार बदबूदार पेशाब होना और पेशाब का रंग दून्धला या फिर हल्का लाल होना पीठ के निचले हिस्से मे दबाव महसूस होना इस बीमारी के प्रमुख लक्षण है इस बीमारी से बचने के लिए खूब ज़्यादा पानी पिए.  

दोस्तों आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेंट करके ज़रूर बताना.
अगर आपको यह जानकारी पसंद आए तो इसे लाइक और शेयर ज़रूर करे और साथ ही हमारे चैनल को फॉलो भी ज़रूर करे .