Wednesday, 18 October 2017

बालो का सफ़ेद होना कैसे रोके होम्योपैथिक उपचार से

white-hair-treatment
आज कल की नौजवान पीढ़ी में यह समस्या बहुत आम होती जा रही है बढ़ती उम्र के साथ बाल सफेद होना आम बात है लेकिन आज के दौर मे कम उम्र में ही लोगो के बहुत ज्यादा सफेद बाल देखने को मिल रहे हैं। हमारा मानना है कि बालों के लिए आवश्यक पोषण ना मिलना ही बालो का सफ़ेद  होने का कारण है डॉक्टर्स के मुताबिक हमारे बालों का काला रंग MELANIN नामक पिगमेंट के कारण होता है। ये पिगमेंट बालों की जड़ों की सेल्स में पाए जाते हैं। जब मेलानिन बनना बंद हो जाते है  तो बाल सफेद होने लगते हैं।लगातार उम्र बढ़ने के साथ मेलानिन का बनना कम होने लगता है और इस तरह बहुत से लोगो के बाल सफेद होने लगते हैं।बालो के सफ़ेद होने की सबसे बड़ी वजह हो सकती है बढ़ती उम्र।लेकिन  आज के युग मे ये परेशानी युवाओ मे ज्यादा हो रही है इसकें अलावा दवाओं का साइड-इफेक्ट, न्यूट्रीशन की कमी, हार्मोनल चेंजस,और केमिकल भी हो सकता है।
 

   रुसी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अपनाये ये कारगर दवाई
 

होम्योपैथिक दवाई से करे सफेद बालो का उपचार:-
 

1.बाल जल्दी सफ़ेद होने मे THYROIDIN30 या 200,दिन मे तीन बार..
2.होम्योपैथिक दवाई मदर टिंकचर आमलकी Q की 3 बूंद दिन में तीन बार लगातार लेने से बाल काले होने शुरू हो जाते हैं..
3.सफेद बालों से छुटकारे की  होम्योपैथिक दवाई  : कैल्केरियाफास, नेट्रमम्यूर, कार्बोवेज और पिक्रिक एसिड 30 एवं 200 पोटेंसी में दिन मे दो बार..
4.बाल जल्दी सफ़ेद होने की अवस्ता मे दोनों दवाई एक के बाद दूसरी एक एक हफ्ते के अंतर पर -lycopodium200 और acid phos200 दो बार..
5.सफ़ेद बालो के लिए नारियल, जैबोरण्डी या अर्निका तेल सबसे अच्छा रहेता है..

Note:-होम्योपैथिक दवाई लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श ज़रूर ले।


अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आए,आप अपने दोस्तों को सोशल मीडिया पर शेयर  ज़रूर करे....

No comments:

Post a Comment